एक विवाह ऐसा भी 3

मैने निप्पल को रगडते हुये चुचियोंको मसलना शुरु किया। लडका अभीभी डर रहा था।मैंने एक चुची को मुँह भर कर चुसनाशुरु किया और लडके को भी इशाराकिया के वो भी चुसना शुरु करे।मेरी बात मानकर उसने भी एक चुचीमुँह में भरकर चुसना शुरु किया।मामी जी से रहा नहीं जा रहा था। वोचाह रहीं थी के … Read more

एक विवाह ऐसा भी 2

अमर का गाँव का घर काफी बडा था।काफी सारे कमरे थे उसमें।पूरी बारात को अलग अलग रुकने कीव्यवस्था की गई थी। ऐसा लग रहाथा जैसे एक छोटा सा गाँव बस गयाहैं उसकी प्रॉपर्टी पर।बाग – बगीचे, दुर तक फैले खेत, दोचार कुअे, छोटी – मोठी नहरे।जितनी बडी प्रॉपर्टी अमर की थी,उतनी प्रॉपर्टी पूरे गाँव की … Read more

एक विवाह ऐसा भी 1

जिस घर में शादी होती हैं उस घर में कितनी रेलचेल और कितनी धूम मची होती हैं ये तो आप सबको पता ही हैं। ये कहानी मेरे एक दोस्त की शादी की ही हैं, दोस्त का नाम हैं अमर। अमर के घर वालों ने उसकी शादी गाँव में करने का फैसला किया था। शादी छुट्टियों … Read more